-एक परिचय- उ0 प्र0 पुलिस आवास निगम लि0

निगम की स्थापना कम्पनी अधिनियम 1956 के अन्तर्गत 27 मार्च 1987 को हुई। निगम द्वारा मात्र पुलिस विभाग के निर्माण कार्यो को सम्पादित कराया जाता है। पुलिस विभाग के विभिन्न प्रकार के आवासीय/अनावासीय भवनों का निर्माण कराना है। इस निगम के विभागाध्यक्ष पुलिस महानिदेशक स्तर के आई0पी0एस0 अधिकारी होते हैं। उक्त अधिकारी को शासन द्वारा प्रतिनियुक्ति पर निगम में समय-समय पर तैनात किया जाता है। निगम में कुल स्वीकृत पद 173 है, जिसमें 67 तकनीकी कार्मिक है।

उत्तर प्रदेश पुलिस आवास निगम लिमिटेड की संगठनात्मक संरचना

निगम की स्थापना कम्पनी अधिनियम 1956 के अन्तर्गत 27 मार्च 1987 को हुई। निगम द्वारा मात्र पुलिस विभाग के निर्माण कार्यो को सम्पादित कराया जाता है। पुलिस विभाग के विभिन्न प्रकार के आवासीय/अनावासीय भवनों का निर्माण कराना है। इस निगम के विभागाध्यक्ष पुलिस महानिदेशक स्तर के आई0पी0एस0 अधिकारी होते हैं। उक्त अधिकारी को शासन द्वारा प्रतिनियुक्ति पर निगम में समय-समय पर तैनात किया जाता है। निगम में कुल स्वीकृत पद 173 है, जिसमें 67 तकनीकी कार्मिक है।

निगम की स्थापना कम्पनी अधिनियम 1956 के अन्तर्गत 27 मार्च 1987 को हुई। निगम द्वारा मात्र पुलिस विभाग के निर्माण कार्यो को सम्पादित कराया जाता है। पुलिस विभाग के विभिन्न प्रकार के आवासीय/अनावासीय भवनों का निर्माण कराना है।

पुलिस विभाग के महत्वपूर्ण भवन

  • पुलिस आवास निगम द्वारा पुलिस विभाग के निम्नलिखित भवनों का निर्माणकराया जाता हैः-
  • 1- पुलिस अधीक्षक, कार्यालय
  • 2- पुलिस अधीक्षक, आवास
  • 3- क्षेत्राधिकारी, कार्यालय
  • 4- क्षेत्राधिकारी, आवास
  • 5- थानों का प्रशासनिक भवन
  • 6- पुलिस कर्मियों हेत श्रेणी-प्रथम, श्रेणी-द्वितीय, श्रेणी-तृतीय, श्रेणी-चतुर्थ एवं श्रेणी-पंचम आवासों का निर्माण।
  • 7- क्वार्टर गार्ड
  • 8- विभिन्न क्षमता की बैरक
  • 9- पी0 ए0 सी0 वाहिनियों में विभिन्न प्रकार के भवन
  • 10- अग्निशमन केन्द्रों के विभिन्न प्रकार के भवन
  • 11- नक्सलवाद थानों का निर्माण
  • 12- पुलिस ट्रेनिंग स्कूल के विभिन्न प्रकार के भवनों का निर्माण आदि।